Emoverse_Hindi

क्रिप्टो करेंसी के दौर में भारत में उपयोगिता सेवाओं के साथ संबद्ध अपनी तरह का पहली प्रकार का क्रिप्टो कॉइन, इमोकॉइन, लॉन्च करने के सुअवसर पर बेहद उत्साहित, सचिन शर्मा, मार्केटिंग हेड (दक्षिण पूर्व एशिया ईमो डाओ) ने जारी किए गए एक प्रेस बयान में कहा कि इमोकॉइन डिजिटल मुद्रा का सुनहरा भविष्य है। इमो पे का रोडमैप जारी करते हुए उन्होंने इस बात पर विशेष बल दिया कि इमोकॉइन डिजिटल मुद्रा का वास्तविक लोकतंत्रीकरण है जो व्यक्तियों और व्यवसायों को विश्व स्तर पर अत्याधुनिक ब्लॉकचेन, क्रिप्टोग्राफी और समकक्ष समूह टैक्नॉलाजी में निर्मित भरोसेमंद, अनाम और सुरक्षित लेनदेन करने में सक्षम बनाता है। रोडमैप के बारे में अधिक खुलासा करते हुए, सचिन शर्मा ने कहा कि इमोकॉइन इकोसिस्टम उपयोगकर्ताओं को उन अनगिनत उत्पादों और सेवाओं तक पहुंचने की अनुमति देगा, जिनकी किसी भी व्यक्ति को अपने दैनिक जीवन में आवश्यकता होती है, जिसमें क्रिप्टो वॉलेट, मुद्रा स्वैप, वेब ब्राउज़र, एक्सचेंज, स्टेकिंग, ऋण, भुगतान गेटवे, रिटेल, मनोरंजन, स्वास्थ्य सेवा तथा और भी बहुत कुछ शामिल हैं। दोहराते हुए उन्होंने कहा कि करेंसी स्वैप, वेब ब्राउजर, एक्सचेंज, स्टेकिंग, लोन, पेमेंट गेटवे, रिटेल, एंटरटेनमेंट, हेल्थकेयर तथा और भी बहुत कुछ। इमो पे ब्रांड नाम के साथ इमो डाओ का एक फ्यूचरिस्टिक डिजिटल उत्पाद है जो डिजिटल वित्तीय दुनिया में सुगम लेनदेन के लिए स्मार्ट लोगों को आकर्षित करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

इमो पे अपनी प्रकार का नवीनतम और संभावित पहला क्रिप्टो कॉइन होगा। इसके लाभों की गिनती करते हुए, सचिन शर्मा ने कहा कि इमोकॉइन का कोई थर्ड पार्टी रिस्क नहीं है; यह पारदर्शी, तेज और सुगम है; इसे कैपिटल रिजर्व की किसी प्रकार की आवश्यकता नहीं है; इसका जमा प्रबंधन सुरक्षित है और सबसे बड़ी बात यह कि इसमें बिना किसी मध्यस्थ के शर्तों का स्वतः निष्पादन है। इमोकॉइन से जुड़ी सेवाओं के बारे में पूछे जाने पर, सचिन ने जवाब दिया कि प्रमुख क्षेत्र शिक्षा, ई-कॉमर्स, रियल एस्टेट, यात्रा और स्वास्थ्य सेवा के साथ कई अन्य हैं।

यदि हम निवेशकों की बात करते हैं, इमोकॉइन स्टेकिंग निवेशक के निवेश को बढ़ाने का एक शानदार तरीका सिद्ध होने जा रहा है।  एक बार जब कोई निवेशक अपने इमोकॉइन को दांव पर लगा लेता है, तो वह अपने निवेशों पर स्टेकिंग अवार्ड कमा सकता है और उन भविष्य के अवार्ड्स को समझदारी से जोडता हुआ आगे बढ़ा सकता है।  आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि इमो स्टेकिंग बहुत ही सरल और सबसे छोटे निवेश के साथ सुलभ है और कोई भी केवल 500 ईमो निवेश करके कार्यक्रम शुरू कर सकता है जो सिस्टम में अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करेगा़। निवेशकों को निश्चित रूप से कार्यकाल के आधार पर पुरस्कृत किया जाएगा। स्टेक किए हुए ईमो का उपयोग उधारकर्ताओं को ऋण प्रदान करने और उधारदाताओं के लिए आय उत्पन्न करना वित्तीय बाजार में एक क्रांति ला सकता है।

वास्तव में, इमोकॉइन एक अपग्रेड है जिसमें शामिल होंगे ईमोकॉइन ब्लॉकचेन में जोड़े गए स्मार्ट कांट्रेक्ट्स जिसके लिए  ‘चेन-की-क्रिप्टोग्राफी’ का उपयोग किया जाएगा जो ब्रिज के इस्तेमाल की आवश्यकता को समाप्त कर देगी’ सचिन ने इस विषय में और जानकारी देते हुए बताया।

ईमोकॉइन की यात्रा का स्मरण करते हुए उन्होंने कहा कि ईमो वॉलेट का विकास सितंबर-दिसंबर, 2021 के दौरान शुरू हो गया था जब विक्टोरिया (शुभंकर) लॉन्च किया गया था जिस अवधि के दौरान ईमो पे यानी थर्ड पार्टी पेमेंट गेटवे इंटीग्रेशन एपीआई भी शुरू हुआ।

नए रोडमैप पर ध्यानाकर्षित करते हुए सचिन शर्मा ने उत्साहपूर्वक भावी योजनाओं के बारे में बताया। नए रोडमैप के अनुसार, ईमो डाओ जल्द ही यानी मई 2022 में भारत में प्रीपेड मोबाइल और डीटीएच सेवाओं के रिचार्ज की सुविधा शुरू करने जा रहा है।  उन्हें यह बताते हुए बेहद खुशी हुई कि इसका पहला टेस्ट ट्रायल भारत में ही आयोजित किया जाएगा। आगामी जून 2022 में ईमो स्वैप, एक पीयर टू पीयर खरीद/बेच सुविधा और ईमो पे एन्ड्रॉयड मोबाइल ऐप का लॉन्च होने जा रहा है।  जुलाई 2022 में फ्लाइट, होटल, बस, रेल, फास्टैग और मेट्रो कार्ड की बुकिंग के साथ-साथ लक्की-7 एक दिलचस्प गेम भी लांच होगी। मानसून की शुरुआत के साथ ही एक विकेन्द्रीकृत मिश्रित रियल एस्टेट परियोजना, इमोवैली के लिए पूर्व बिक्री शुरू हो जाएगी। इसके बाद इमोकॉइन रखने वालों के मनोरंजन हेतु, इमो पोकर गेम सितंबर 2022 में लॉन्च की जाएगी। ईमो डाओ, ईमो स्वैप (एक्सचेंज) और एनएफटी मार्केटप्लेस लॉन्च करने के लिए तैयार है और इस दिशा में काम पूरे जोर-शोर से जारी है। यह एक और फ्यूचरिस्टिक धमाका सिद्ध होने जा रहा है जो निवेशकों को विस्मय में डाल सकता है।

अक्टूबर 2022 से शुरू होने वाली तिमाही में अमेज़ॅन या फ्लिपकार्ट उपहार कूपन जैसे उपहार कूपन खरीदने की शुरुआत होगी, और विश्वास करें, यह डिजिटल दुनिया में एक और क्रांति होगी।

सचिन ने कहा कि वे इमोकॉइन को ऐसे स्तर पर ले जा रहे हैं जहां किसी एक्सचेंज की जरूरत नहीं होगी। इस रोडमैप को 6 महीने का रोडमैप बताते हुए उन्होंने कहा कि 2023 की अगली छमाही में ईमो डाओ द्वारा ब्लॉकचेन देखना तय है।

अगले वर्ष 2023 की योजनाओं पर बात करने से पहले, सचिन ने कहा कि उनकी कंपनी मुद्रा का शत-प्रतिशत उपयोग करने में विश्वास करती है जो हमारे सभी उत्पादों और सेवाओं को इमोकॉइन मालिकों के लिए विश्वसनीयता, जवाबदेही, चपलता और स्वतंत्रता लाने के लिए सशक्त बनाती है, जो विकेंद्रीकृत अर्थव्यवस्थाओं में भाग लेने के लिए सशक्त होंगे।

‘निकट भविष्य में हमारे सभी पोर्टफोलियो में किए गए सभी लेनदेन प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से इमोकॉइन के माध्यम से होंगे। हम इस लिंक को मजबूत करने के लिए निरंतर नवाचार और विकास के लिए काम करेंगे और यह हमें अपने उपयोगकर्ताओं से जुड़ने और पारिस्थितिकी तंत्र के विकास में मदद करेगा’ पूर्ण रूप से आश्वस्त सचिन शर्मा ने कहा। ईमो स्टेकिंग पर पुनः चर्चा करते हुए उन्होंने स्पष्ट किया कि इमोबैंक में स्टेकिंग एक ऐसा कार्यक्रम है जिसमें विशिष्ट कार्यकाल के लिए सिस्टम में ईमो खरीदना और फ्रीज करना शामिल है, जहां प्रतिभागियों को उनकी स्टेकिंग अवधि के अनुसार ईमो अर्जित करके लाभ दिया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि इन कॉइंस को फ्रीज करने से, सभी प्रतिभागी संगठन के सुरक्षा ढांचे का हिस्सा बन जाएंगे और परियोजना के विकास में सहायता करेंगे और मुद्रा की कीमत के मूल्यांकन में वृद्धि करेंगे। स्टेकिंग कार्यक्रम में जमा ईमो का उपयोग उधारकर्ताओं को ऋण देने और उधारदाताओं के लिए आय उत्पन्न करने में किया जाएगा, उन्होंने दोहराया।

रोडमैप पर वापस आते हुए, सचिन ने कहा कि जनवरी, 2023 से जुलाई 2023 तक, ईमो डाओ मेटावर्स, यानी आभासी संपत्तियों के लॉन्च की तैयारी और ईएमओ ब्लॉकचेन के शुभारंभ की तैयारी कर रहा है।

सचिन ने उन निवेशकों को जिनके पास क्रिप्टोकरंसी पड़ी हुई है, इसका सही उपयोग करने और उसमें वृद्धि करने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने उन्हें वैश्विक स्तर पर ‘असीमित उधार’ के साथ उधारकर्ताओं को उधार देने की और भौगोलिक और आर्थिक बाधाओं से मुक्त पीयर-टू-पीयर उधार देने वाले विशिष्ट बैंक डिपॉजिट्स की तुलना में अधिक रिटर्न प्राप्ति के लिए सलाह दी ।

ईमो लेंडिंग प्लेटफॉर्म पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि यह एक ऑनलाइन स्टेज है जो निवेशकों को ‘स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट’ में उधारकर्ताओं और उधारदाताओं के बीच पारस्परिक रूप से सहमत ब्याज के बदले में अपने क्रिप्टो को ऋण देने की अनुमति देता है। इसे आगे समझाते हुए उन्होंने कहा कि जिन उधारकर्ताओं को वास्तविक नकदी की आवश्यकता है, उदाहरण के लिए, अमेरिकी डॉलर या यूरो मुद्रा, वे ब्याज के बदले इन चरणों के माध्यम से क्रेडिट लेंगे। इसी तरह, उन्होंने विश्वास व्यक्त किया, कि ऋण विशेषज्ञ, जिन्हें आमतौर पर वित्तीय समर्थक कहा जाता है, जिनके पास कुछ क्रिप्टोकरंसी पड़ी है, वे इससे आसान राजस्व उत्पन्न करना चाहेंगे।

अपने बयान का समापन करते हुए सचिन शर्मा ने कहा कि वित्तीय क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौती भरोसे की कमी है। बैंकिंग संगठन अपनी उधार देने की प्रक्रिया में अधिक कठोर होने के साथ, समय, लागत और ऋण प्राप्त करने की परेशानी उपभोक्ताओं को बाज़ार में उधार देने के लिए मजबूर कर रही हैं। उन्होंने कहा कि उधारकर्ताओं को उच्च लागत, जटिल प्रक्रियाओं, लंबी अनुमोदन प्रक्रिया, सूचना तक पहुंच, व्यक्तिगत डेटा का भंडारण, भरोसेमंदता, धन तक पहुंच, पारदर्शिता की कमी और सख्त उधार मानदंड का सामना करना पड़ता है।

सचिन ने इसे एक बड़ा अवसर बताते हुए कहा ‘यह समय उपभोक्ता की बात सुनने, उनकी जरूरतों को समझने, उनकी चिंताओं के प्रति सहानुभूति रखने और उन्हें स्मार्ट लक्ष्यों के साथ संबोधित करने का है। यदि हम अपने लिए उपलब्ध रिसर्च का उपयोग करते हैं, नवीनतम तकनीक को अपनाते हैं और नवाचार के साथ जुनून को जोड़ते हैं, तो हम उपभोक्ता की मांगों को बेहतर ढंग से पूरा करने के लिए बेहतर सेवा समूह बना सकते हैं। ब्लॉकचेन पर वित्त के मुख्य कार्य को लाकर हम स्मार्ट अनुबंध की मदद से फ्यूचर-प्रूफ सेवाओं में काफी सुधार कर सकते हैं।’

https://www.emo.network/

www.emopay.org